Breaking News
Home / राष्ट्रीय / Chhapaak से लोगों को हमदर्दी, कहा-सस्‍ती लोकप्रियता के लिए Deepika Padukone ने गंभीर मुद्दे को किया बर्बाद, पढ़ें कमेंट्स

Chhapaak से लोगों को हमदर्दी, कहा-सस्‍ती लोकप्रियता के लिए Deepika Padukone ने गंभीर मुद्दे को किया बर्बाद, पढ़ें कमेंट्स


#DeepikaPRBackfires : Deepika Padukone की बहुचर्चित फिल्‍म छपाक आज रिलीज हो गई। पहले दिन इस फिल्‍म का प्रदर्शन बहुत अच्‍छा नहीं रहा, जबकि इसे कई राज्‍यों में सरकार की ओर से टैक्‍स फ्री भी किया गया है। सभी जानते हैं कि यह फिल्‍म एसिड अटैक जैसी गंभीर समस्‍या पर आधारित है। फिल्‍म का विषय और दीपिका का अभिनय दोनों अच्‍छे होने के बावजूद फिल्‍म को लोगों ने पसंद नहीं किया। इसकी क्‍या वजह होगी। सीधा सा जवाब है, दीपिका पादुकोण की जेएनयू कंट्रोवर्सी। फिल्‍म रिलीज होने के तीन दिन पहले दीपिका जेएनयू में छात्रों का सपोर्ट करने पहुंची और विवादों में घिर गईं। सोशल मीडिया पर उनकी फिल्‍म का बॉयकाट शुरू हो गया। नतीजा सामने है। अच्‍छी खासी फिल्‍म को इस विवाद का खामियाजा भुगतना पड़ा। अब जब चूंकि फिल्‍म सामने आ चुकी है, सोशल मीडिया पर नया ट्रेंड चल रहा है, #DeepikaPRBackfires इसमें यूजर्स कह रहे हैं कि उन्‍हें फिल्‍म से हमदर्दी है लेकिन दीपिका ने सस्‍ती लोकप्रियता के चक्‍कर में एक संजीदा मसले के साथ नाइंसाफी कर दी है। लोगों की बातों से साफ लग रहा है कि वे इस फिल्‍म को हिट होते देखना चाहते थे लेकिन दीपिका की खुराफात इसे ले डूबी। ज़रा देखें लोग क्‍या कह रहे हैं।

तानाजी भारत में 3800 स्क्रीन पर रिलीज हुई और छपाक 1700 स्क्रीन पर। यानी कि तानाजी की स्क्रीन लगभग दुगुनी हैं।

तीन राज्यों में करमुक्त होने के बावजूद पहले दिन छपाक ने कमाए 4.70 करोड़ और तानाजी की कमाई रही 15.20 करोड़। यानी कि तानाजी ने कमाई लगभग तिगुनी की है।

आगे के संकेत ऐसे हैं कि शनिवार और रविवार के बीच तानाजी की कमाई में वृद्धि तय है जबकि छपाक के बहुत आगे जाने की उम्मीद नहीं लगती। उम्मीद है कि इस सप्ताहांत में तानाजी पचास करोड़ के आसपास होगी जबकि छपाक दस-बारह करोड़ के इर्द-गिर्द निपट जाएगी।

छपाक की निर्देशक मेघना गुलज़ार की पिछली फिल्म ‘राज़ी’ भी लगभग छपाक जितनी स्क्रीन्स पर ही रिलीज हुई थी और वो भी नायिका प्रधान फ़िल्म थी, लेकिन उसने पहले दिन तकरीबन साढ़े सात करोड़ की कमाई की थी। दीपिका, आलिया भट्ट से बड़ी स्टार हैं, इसलिए उनकी फिल्म से किसी भी तरह राज़ी से अधिक ओपनिंग की उम्मीद निर्माताओं को थी, लेकिन अब तो लागत निकल जाए तो भी गनीमत है।

दर्शकों से अलग आईएमडीबी से लेकर हर ऑनलाइन रेटिंग माध्यम पर तानाजी कहीं आगे है। कुछ वामपंथी वेबपोर्टलों को छोड़कर बाकी पूरी मीडिया ने भी तानाजी को छपाक से बढ़िया रेटिंग दी है।

छपाक एक जरूरी विषय पर बनी फिल्म है, लेकिन इसमें राजनीति को घुसाकर लाभ लेने के लालच ने इसका तो नुकसान किया ही है, लेकिन उससे कहीं अधिक दीपिका की छवि को भी इसका नुकसान हुआ है। देर-सबेर उन्हें ये बात समझ में आ जाएगी।

समझ में आ जाए तो ही बेहतर भी है, क्योंकि एक अच्छी अभिनेत्री को ‘स्वरा भास्कर’ बनकर बर्बाद होते हुए देखना कम से कम मेरे लिए सुखद नहीं होगा।

एसिड अटैक सर्वाइवर्स के ऊपर दीपिका की फिल्म आ रही है छपाक। जिसके प्रमोशन के लिए फिल्म की पूरी टीम देश के एसिड सर्वाइवर्स से मिल रही है। क्या ये एक्टर/डायरेक्टर पेहले कभी मिले ? क्या इन्होने फिल्म की कमाई का कोई हिस्सा ऐसे पीड़ितों के लिए बने NGOs को दान करने की घोषणा की ? पिछ्ले साल जब ये फिल्म बन रही थी तब यूपी में जब एसिड अटैक विक्टिम्स के लखनऊ में बने कैफे #SherosHangout को योगी सरकार ने हटाने की कोशिश की तब उनका खयाल आया ?

हिन्दुओं की बात करने वाले नेताओं के लिए चुनाव एक इवेंट है। जिसकी प्रोमोशन-प्रचार के लिए वो मिलने आयेंगे। दंगे कराके शांति भंग कर देंगे। भाषणों में हिन्दुओं के भले बन ने की एक्तिंग करेंगे। क्या किसी नेता ने (अच्छे कौलेजों मे) फ्री शिक्षा, रोजगार, उधोगों में छूट की बात की? क्या कोई नेता चुनाव के बाद सुध लेने आया ?

एसिड सर्वाइवर्स को पता है कि एक दिन फोटो खिंचाने से दीपिका उनकी दोस्त नही हो गयी लेकिन जनता नेता से मिलकर एक दिन में उसे बाप मान लेती है। दोनों अभिनेता हैं, दोनों अपना स्वार्थ साधने आये हैं, और कल दोनों तुम्हें भूल जाएंगे।

About Editor

Check Also

पत्थलगड़ी का विरोध करने पर झारखंड में सात ग्रामीणों की हत्या

पश्चिमी सिहभूम. झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम में पत्थलगड़ी समर्थकों ने एक हत्याकांड को अंजाम देते हुए …