Breaking News
Home / राष्ट्रीय / हैदराबाद में दुष्कर्म और हत्याकांड के विरोध में महिलाओं ने सड़क पर उतरकर जताया विरोध

हैदराबाद में दुष्कर्म और हत्याकांड के विरोध में महिलाओं ने सड़क पर उतरकर जताया विरोध


हैदराबाद. हैदराबाद में महिला डॉक्टर की हत्या के विरोध में सोमवार को महिलाएं सड़कों पर उतरी और विरोध-प्रदर्शन किया। शाम ढलने के साथ महिलाएं एकत्रित हुई और मृतका को याद करते हुए हाथों में मोमबत्ती लेकर श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर प्रदर्शन कर रही महिलाओं ने महिलाओं के खिलाफ हो रहे इस तरह के घिनौने अपराधों पर लगाम लगाने की वकालात की।

संसद में दिखाई दिया गुस्सा

इससे पहले सोमवार को महिला डॉक्टर के साथ हुई हैवानियत को लेकर संसद में भी गुस्सा देखा गया। कांग्रेस ने इस पर चर्चा की मांग की। राज्यसभा की सपा सांसद जया बच्चन ने कहा कि हैदराबाद के दोषियों को जनता के हवाले कर दिया जाना चाहिए। ऐसे अपराधियों को किसी भी सूरत में माफ नहीं किया जा सकता है। राज्यसभा सभापति वेंकैया नायडू ने भी कहा कि ऐसे अपराध करने वालों पर दया नहीं करना चाहिए।

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस मामले पर बोलते हुए लोकसभा में कहा कि हैदराबाद में अमानवीय कृत्य हुआ है और पूरा देश इसको लेकर शर्मसार है। सरकार दोषियों पर कठोरतम कार्रवाई के लिए तैयार है। अनुप्रिया पटेल ने इस मामले में तेलंगाना सरकार के रुख पर सवाल उठाया और कहा कि सरकार को तत्काल सख्त कार्रवाई करना चाहिए।

जंतर-मंतर पर छात्रों का प्रदर्शन

वहीं महिला डॉक्टर के साथ दुष्कर्म और हत्या के विरोध में दिल्ली के जंतर-मंतर पर छात्रों का प्रदर्शन जारी है। हैदराबाद कांड पर संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि हर समय सरकार या पुलिस-प्रशासन से भरोसे नहीं रहा जा सकता। सब कुछ उन्हीं पर छोड़ देने से काम नहीं चलेगा। हम अपने बच्चों को मातृशक्ति के प्रति सम्मान की शिक्षा देना होगी।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने हैदराबाद की घटना पर ट्वीट कर कहा कि ‘हैदराबाद में एक महिला डाक्टर के रेप व मर्डर की दरिन्दगी के खिलाफ देशभर में फैला जन आक्रोश यह बहुत ही स्वाभाविक है। घटना अति-दुःखद व अति-निन्दनीय है तथा सरकार को चाहिए कि दोषियों को यथाशीघ्र कड़ी से कड़ी सज़ा सुनिश्चित करके पीड़ित परिवार को न्याय दिलाए।’

48 घंटे पहले पुलिस ने पकड़ा था आरोपी को

इस मामले में एक नया खुलासा हुआ है। पुलिस के मुताबिक मुख्य आरोपी बगैर ड्राइविंग लाइसेंस के दो साल से वाहन चल रहा था। उसको 25 नवंबर को ही पुलिस ने पकड़ा था, लेकिन किसी तरह की कार्रवाई करे बगैर उसको छोड़ दिया था।

इसके 48 घंटे बाद ही उसने अपने तीन अन्य साथियों के साथ मिलकर इस दर्दनाक वारदात को अंजाम दिया। अब यह कहा जा रहा है कि यदि पुलिस समय रहते उस दिन कार्रवाई करती, तो संभव था कि आरोपी इस जघन्य कांड को अंजाम नहीं देता। हैदराबाद में महबूब नगर की ट्रैफिक पुलिस ने 25 नवंबर को आरोपी का मिनी ट्र्क पकड़ा था। पुलिस अधिकारियों के अनुसार, इस बात की जांच की जा रही है कि आरोपी बगैर कार्रवाई के कैसे बच निकला।

जानकारी के अनुसार, 24 नवंबर को मुख्य आरोपी ने अपने क्लीनर के साथ कर्नाटक से ईंटे अपनी गाड़ी में भरी और हैदराबाद के लिए रवाना हुआ। बीच में दोनों तेलंगाना के गुडीगंडला गांव में रुके जहां उसने दो अन्य साथियों को बुलवा लिया। उन्होंने गाडी में स्टील का कुछ और सामान लोड किया और आगे बढ़े। हैदराबाद बॉर्डर पर पुलिस ने वाहन को रोका और लाइसेंस का पूछा, तो मुख्य आरोपी ने चालाकी से वाहन आगे बढ़ा लिया और सभी पुलिस की निगाहों से बच निकले। इसी वाहन में मौजूद चारों आरोपियों में महिला डॉक्टर से साथ वारदात को अंजाम दिया।

About Editor

Check Also

ISRO ने लॉन्च किया RISAT-2BR1, अंतरिक्ष से दिन हो या रात, करेगा सीमाओं की निगरानी

चेन्नई. ISRO ने आज अतंरिक्ष में एक और बड़ी छलांग लगाते हुए अपने रडार इमेजिंग पृथ्वी …