Breaking News
Home / राष्ट्रीय / 45 मिनट देरी से पहुंची एंबुलेंस, इलाज नहीं मिलने से विजय रुपाणी के मौसेरे भाई का निधन

45 मिनट देरी से पहुंची एंबुलेंस, इलाज नहीं मिलने से विजय रुपाणी के मौसेरे भाई का निधन


अहमदाबाद. गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी के मौसेरे भाई अनिल संघवी का निधन गया है। दुखद बात यह भी रही कि रोजकोट निवासी अनिल संघवी की तबीयत बिगड़ने पर परिवार के लोगों ने 108 एंबुलेंस के लिए फोन किया था, लेकिन एबुलेंस समय पर नहीं पहुंची और उन्हें समय पर इलाज नहीं मिला। जानकारी के मुताबिक, एंंबुलेंस 45 मिनट देरी से पहुंची। बाद में विजय रुपाणी खुद अपने भाई के अंतिम संस्कार में शामिल हुए थे।

अनिल संघवी का बीती 4 अक्टूबर को निधन हुआ था। वे अपने परिवार के साथ रहते थे। 4 अक्टूबर को उन्हें सांस की तकलीफ हुई, तो बेटे गौरांग ने 108 एंबुलेंस को फोन किया। जब एंबलेंस नहीं आई तो बार-बार फोन लगाया, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। 45 मिनट बाद एंबुलेंस आई और उन्हें अस्पताल ले जाया गया, लेकिन रास्ते में ही उनका निधन हो गया।

जानिए क्या कह रहे कलेक्टर

108 एंबुलेंस की यह लापवाही जब मुख्यमंत्री तक पहुंची तो उन्होंने कलेक्टर से पूरी जानकारी ली और मामले की जांच के आदेश दिए। वहीं कलेक्टर राम्य मोहन 108 एंबुलेंस सेवा का पक्ष लेते नजर आए। उनका कहना है कि पता कंफर्म करने के लिए एंबुलेंस के ड्रायवर ने दो बार परिवार से फोन पर संपर्क साधने की कोशिश की, लेकिन परिवार से बात नहीं हो पाई। कुल मिलाकर पते की गफलत के कारण एंबुलेंस समय पर नहीं पहुंंच पाई।

सोशल मीडिया पर उठ रहे सवाल

यह घटनाक्रम सामने आने के बाद गुजरात में स्वास्थ्य सेवाओं की स्थिति पर सवाल उठने लगे हैं। सोशल मीडिया पर बहस छिड़ी और कहा जा रहा है कि जब मुख्यमंत्री के भाई को एंबुलेंस सेवा समय पर नहीं मिल सकती, तो आम आदमी की क्या स्थिति होगी। बता दें, गुजरात सरकार अपने स्वास्थ्य सेवाओं को देश भर में श्रेष्ठ बताती है और कहती है कि सबसे सस्ता इलाज यहां मिलता है।

About Editor

Check Also

दो से ज्यादा बच्चे वाले माता-पिता को 2021 से असम में नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी

गुवाहटी. असम में सरकारी नौकरी की चाह वाले लोगों को अब सिर्फ अपने बारे में ही …