Breaking News
Home / छत्तीसगढ़ / मुख्यमंत्री ने जनघोषणा के अनुरूप कर्ज में डूबे किसानों का ऋण माफ किया: प्रभारी मंत्री लखमा

मुख्यमंत्री ने जनघोषणा के अनुरूप कर्ज में डूबे किसानों का ऋण माफ किया: प्रभारी मंत्री लखमा


धमतरी.प्रदेश के वाणिज्यिक कर, उद्योग एवं जिले के प्रभारी मंत्री श्री कवासी लखमा ने आज जिला स्तरीय कृषि ऋण माफी तिहार में मुख्य अतिथि के तौर पर शिरकत की। इस अवसर पर उन्होंने संबोधित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में सात माह में ही किसानों के लिए अनेक कार्य किए। जनघोषणा पत्र में किए गए वायदे के अनुरूप कर्ज में डूबे प्रदेश भर के किसानों के अल्पकालीन ऋण माफ किया। इतना नहीं, 25 सौ रूपए में मेहनतकश किसानों के धान के एक-एक दाने को खरीदकर खून-पसीने की कमाई का मोल चुकाया जाएगा। इस अवसर पर पूर्व विधायक धमतरी श्री हर्षद मेहता, कुरूद श्री लेखराम साहू सहित वरिष्ठ नागरिक श्री मोहन लालवानी, श्री राजकुमार अग्रवाल, जिला पंचायत सदस्य श्री नीशु चंद्राकर उपस्थित थे। स्थानीय पुरानी कृषि उपज मण्डी परिसर में आज दोपहर आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि की आसंदी से केबिनेट मंत्री श्री लखमा ने उपस्थित जनसमुदाय को स्वतंत्रता दिवस की 72वीं वर्षगांठ की बधाई देते कहा कि नरवा, गरवा घुरवा, बाड़ी योजना लाकर प्रदेश की मौजूदा सरकार ने नई क्रांति पैदा कर दी है। नदी-नाले आदि के वर्षा जल को संचित करने, गोठान तैयार कर मवेशियों का ठौर सुनिश्चित करने, जैविक खाद को बढ़ावा देकर किसानों को श्रेष्ठ तरीके से खेती किसानी करने पर शासन जोर दे रहा है। मुख्यमंत्री के नेतृत्व में ऐसी ही अनेक सौगातों का लाभ हर वर्ग को मिलेगा। इसके अलावा पूर्व विधायक द्वय श्री मेहता एवं साहू ने भी अपने संक्षिप्त उद्बोधन में शासन की योजनाओं और उनके क्रियान्वयन पर प्रकाश डाला। इसके पहले जानकारी देते हुए बताया गया कि किसानों की कर्जमाफी योजना के तहत जिले के 52 हजार 303 किसानों का एक अरब 60 करोड़ 86 लाख रूपए का ऋण माफ किया गया। अवसर पर कलेक्टर श्री रजत बंसल, एसपी श्री बालाजी राव, जिला पंचायत के सी.ई.ओ. श्री विजय दयाराम के सहित काफी संख्या में कृषकगण व नागरिक उपस्थित थे।

About Editor

Check Also

सुराजी गांव योजना को मूर्तरूप देने कलेक्टर ने किया गांवों का दौरा, लगाई चैपाल

धमतरी. प्रदेश शासन की सर्वाधिक महत्वपूर्ण सुराजी गांव योजनांतर्गत नरवा, गरूवा, घुरवा और बाड़ी के …