Breaking News
Home / राष्ट्रीय / नेत्रहीनों की मदद के लिए आरबीआई लाने जा रहा है मोबाइल एप

नेत्रहीनों की मदद के लिए आरबीआई लाने जा रहा है मोबाइल एप


नई दिल्ली. भारतीय रिजर्व बैंक दृष्टिबाधित या नेत्रहीन लोगों के लिए एक मोबाइल एप्लीकेशन लाने जा रहा है जिससे उनके लिए नोटों की पहचान आसान हो जाएगी. रिजर्व बैंक ने कहा कि नेत्रहीन लोगों के लिए नकदी आधारित लेनदेन को सफल बनाने के लिए बैंक नोट की पहचान जरूरी है. नोट पहचानने के लिए नेत्रहीनों की मदद के लिए ‘इंटाग्लियो प्रिंटिंग’ आधारित पहचान चिह्न दिए गए हैं. यह चिह्न 100 रुपये और उससे ऊपर के नोट में हैं.

केंद्रीय बैंक ने कहा, ‘‘रिजर्व बैंक नेत्रहीनों को अपने दैनिक कामकाज में बैंक नोट को पहचानने में आने वाली दिक्कतों को लेकर संवेदनशील है. बैंक मोबाइल एप विकसित करने के लिए वेंडर की तलाश कर रहा है. रिजर्व बैंक एप बनाने के लिए निविदा आमंत्रित कर रहा है.

बताया जा रहा है कि व्यक्ति को नोट को एप में स्थित कैमरे के सामने रखकर उसकी तस्वीर खींचनी होगी. यदि नोट की तस्वीर सही से ली गई होगी तो एप ओडियो नोटिफिकेशन के जरिए नेत्रहीन व्यक्ति को नोट के मूल्य के बारे में बता देगा. अगर तस्वीर ठीक से नहीं ली गई या फिर नोट को रीड करने में कोई दिक्कत हो रही है तो एप फिर से कोशिश करने की सूचना देगा. रिजर्व बैंक एप बनाने के लिए प्रौद्योगिकी कंपनियों से निविदा आमंत्रित कर रहा है. बैंक पहले भी इसी तरह के प्रस्ताव के लिए आवेदन मांगे थे. हालांकि, बाद में इसे रद्द कर दिया गया. देश में करीब 80 लाख नेत्रहीन लोग हैं। आरबीआई की इस पहल से उन्हें लाभ होगा.

About Editor

Check Also

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे बोले, “वीर सावरकर को जो मानता नहीं, उसे चौक में पीटा जाना चाहिए”

नई दिल्ली. दिल्ली विश्वविद्यालय के नॉर्थ कैंपस में लगाई गई वीर सावरकर की मूर्ति पर विवाद थमने का …