Breaking News
Home / छत्तीसगढ़ / दिल्लीवासियों को खूब पसंद आई छत्तीसगढ़ की चावल, पहले ही दिन में बिक गई 200 किलो चावल

दिल्लीवासियों को खूब पसंद आई छत्तीसगढ़ की चावल, पहले ही दिन में बिक गई 200 किलो चावल


बिलासपुर. छत्तीसगढ़ के खुरमी ठेठरी व्यंजन स्नैक के बाद अब दिल्लीवासी को प्रदेश के चावल भा गई है, नई दिल्ली के छत्तीसगढ़ भवन में प्रदेश के चावल को खरीदने के लिए भीड़ लगी हुई है, पहले ही दिन लगभग 200 किलो चावल की हुई बिक्री, इसके साथ ही छत्तीसगढ़ी स्नैक्स और हैंडीक्राफ्ट के विभिन्न उत्पाद छत्तीसगढ़ भवन में आने वाले ग्राहकों की पहली पसंद बनी हुई है |

छत्तीसगढ़ का सुगंधित धान पूरे देश में पहचान रखता है। जवा फूल, दुबराज, विष्णु भोग, एचएमटी, श्रीराम, लुचई जैसी सुगंधित धान की किस्में राज्य की पहचान है। चाहे बिलासपुर हो या मुंगेली, महासमुंद या धमतरी, सभी जिलों में सुगंधित धान की खेती हो रही है। हर क्षेत्र में अलग-अलग किस्में।

बता दें कि इन दिनों नई दिल्ली के चाणक्यपुरी स्थित ‘छत्तीसगढ़ भवन’ में 15 से 20 मई तक चावल बिक्री मेले का आयोजन किया गया है। लोग इस मेले में निर्धारित दिन में यहाँ आकर मनपसंद छत्तीसगढ़ के एरोमेटिक चावल खरीद सकते है। यह चावल ऑर्गैनिक के साथ-साथ सेहत के लिए भी बेहद लाभकारी है। इस मेले में फ्रेश देशी छत्तीसगढ़ी स्नैक्स और हस्तशिल्प और हथकरघा के विभिन्न आइटम आम लोगों के लिए बिक्री हेतु उपलब्ध हैं।

ऑर्गेनिक और एरोमेटिक चावल के कई फायदे हैं। इसमें स्टार्च की मात्रा अधिक होती है। इसके अलावा बालियों में छोटा व पतला दाना है जो प्राकृतिक तत्वों से भरपूर होता है। इस विशेष चावल में एंटीऑक्सिडेंट की मात्रा ज्यादा है। इसके अलावा इसमें विटामिन ई, फाइबर और प्रोटीन की प्रचुरता सामान्य चावलों से भी अधिक है। इनमें मौजूद विशेष एंटी ऑक्सीडेंट तत्व त्वचा व आंखों के लिए फायदेमंद होते हैं। इसमें मौजूद फाइबर पाचन तंत्र को दुरुस्त करने के साथ आंत की बीमारी को भी दूर करते हैं। ये चावल मोटापा कम करने के लिए भी बेहद लाभदायक हैं। दिल को स्वस्थ और मजबूत रखने के लिए भी ये सहायक है और इन सब खूबियों वाले खास चावल अब दिल्ली के छत्तीसगढ़ भवन आम लोगों के लिए उपलब्ध है।

About Editor

Check Also

सुराजी गांव योजना को मूर्तरूप देने कलेक्टर ने किया गांवों का दौरा, लगाई चैपाल

धमतरी. प्रदेश शासन की सर्वाधिक महत्वपूर्ण सुराजी गांव योजनांतर्गत नरवा, गरूवा, घुरवा और बाड़ी के …