Breaking News
Home / राष्ट्रीय / Paytm के मालिक को ब्लैकमेल कर रही थी, मांगे 20 करोड़, जाने है कौन

Paytm के मालिक को ब्लैकमेल कर रही थी, मांगे 20 करोड़, जाने है कौन


नोएडा । मोबाइल वॉलेट की नामी कंपनी पेटीएम का गोपनीय डाटा चोरी कर मालिक से 20 करोड़ रुपये की रंगदारी मांगने का मामला सामने आया है। इस मामले में दिल्ली से सटे नोएडा में पुलिस ने पेमेंट-वॉलेट कंपनी पेटीएम के तीन कर्मचारियों को डेटा चोरी करने और 20 करोड़ रुपए की फिरौती मांगने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार आरोपियों में एक महिला भी शामिल है, जो कंपनी के मालिक विजय की सेक्रेटरी बताई जा रही है. इस मामले में कंपनी के मालिक विजय शेखर शर्मा ने पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करायी थी। पुलिस ने बताया कि, इस मामले में एक महिला औऱ उसके सहयोगियों का गिरफ्तार किया गया। महिला शेखर शर्मा की सेक्रेटरी है। जो उनके चोरी किए गए डेटा के एवज में रंगदारी मांग रही थी।

गिरफ्तार महिला का नाम सोनिया धवन है। सोनिया धवन विजय शेखर की निजी सचिव भी थी। उसने एक अन्य कर्मचारी देवेंद्र की मदद से कंपनी का गोपनीय डाटा चोरी कर लिया। इसके बाद वह कंपनी मालिक को ब्लैकमेल कर 20 करोड़ रुपये की रंगदारी मांगने लगी। इस पूरे प्रकरण में सोनिया का पति रूपक जैन भी शामिल है। कंपनी के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट व विजय शेखर शर्मा के भाई अजय शेखर शर्मा की शिकायत पर थाना सेक्टर 20 में इस मामले में रिपार्ट दर्ज हुई है।

आरोप है कि सोनिया ने एमडी के मोबाइल और कंप्यूटर से कंपनी का गोपनीय डाटा चोरी किया था। इसके बाद वह कोलकाता में रहने वाले रोहित चोमल की मदद से कंपनी मालिक विजय शेखर को ब्लैकमेल कर रही थी। रोहित अभी फरार है। कंपनी के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट व विजय शेखर शर्मा के भाई अजय शेखर शर्मा की शिकायत पर कोतवाली सेक्टर 20 में इस मामले में रिपार्ट दर्ज हुई है।

विजय शेखर शर्मा सी-419ए टेलीकॉम कॉलोनी सेक्टर 62 में रहते हैं। इनके भाई व कंपनी के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट अजय शेखर ने बताया कि प्रतीक लोरीयल सोसायटी सेक्टर 120 में रहने वाली सोनिया धवन कंपनी में वाइस प्रेसिडेंट थी। वह कंपनी में पिछले 10 वर्षो से जुड़ी हुई थी। आरोप है कि सोनिया ने साजिश के तहत उनके भाई की मोबाइल और कंप्यूटर से गोपनीय और निजी डाटा चोरी कर लिया। इस साजिश में सोनिया का पति रूपक जैन और शाहदरा सूरजपुर निवासी कंपनी कर्मी देवेंद्र कुमार भी शामिल था।

कैसे मामूली कर्मचारी से Paytm में बड़ी पोस्ट तक पहुंची ब्लैकमेलर सोनिया

 सूत्र बताते हैं कि सोनिया धवन विजय शेखर से जुड़ने से पहले अंग्रेजी अखबार समूह में बिजनेस आपरेशन मैनेजर के पद पर तैनात थी। उसी दौरान वह पेटीएम वन 97 कम्यूनिकेशन लिमिटेड संस्थापक विजय शेखर शर्मा के संपर्क में आई। वर्ष 2010 जनवरी में सोनिया ने अखबार की दुनिया को अलविदा कह पेटीएम वन 97 का दामन जनवरी 2010 में ही थाम लिया। कंपनी में सेकेंडरी मीडिया कांट्रेक्ट के पद पर तैनात हुई।
विजय शेखर शर्मा की हर बिजनेस डील में सोनिया धवन जाया करती थी। आए दिन उसका सिंगापुर, हांगकांग व बंगलुरू का ट्रिप तैयार रहता था। यहीं नहीं जहां कहीं भी को अवार्ड सरेमनी होती, सोनिया धवन की उपस्थिति के बिना कोई भी कार्यक्रम विजय शेखर का नहीं होता था।यहां तक की मीडिया में प्रत्येक खबर के प्रकाशन पर भी सोनिया धवन की अनुमति के बिना नहीं होता है। चीन की सबसे बड़ी अलीबाबा कंपनी के साथ पेटीएम के संपर्क में लाने में सोनिया धवन की अहम भूमिका बताई जा रही है।
कैसे मामूली कर्मचारी से Paytm में बड़ी पोस्ट तक पहुंची ब्लैकमेलर सोनिया

नोएडा के एसएसपी अजय पाल शर्मा के मुताबिक विजय शर्मा ने उनसे शिकायत की थी कि कोई उन्हें ब्लैकमेल कर रहा है. विजय शर्मा ने बताया कि 20 सितंबर को जब वे जापान में थे, उसी समय उनके पास थाइलैंड के एक नंबर से ब्लैकमेलर का कॉल आया. उसने दावा किया कि विजय शर्मा के निजी डाटा उसके पास हैं. इसके एवज में ब्लैकमेलर ने 20 करोड़ की मांग की. साथ कहा कि अगर उसे पैसे नहीं दिए गए तो वे पर्सनल डाटा सार्वजनिक कर देगा, जिससे विजय शेखर की इमेज खराब हो जाएगी. ब्लैकमेलर ने कहा कि उसके पास ये डाटा कंपनी के ही एडमिन डिपार्टमेंट में काम करने वाले राहुल और देवेंद्र से मिली है. इन दोनों कर्मचारियों को विजय शर्मा के पर्सनल डाटा कंपनी में सेक्रेटरी सोनिया से मिली है. ब्लैकमेलर ने ये भी बताया कि उगाही की रकम का 10 प्रतिशत राहुल और देवेंद्र को दिया जाएगा.

मामले की गंभीरता को देखते हुए इसकी जांच के लिए थाना सेक्टर 20 के प्रभारी निरीक्षक मनोज कुमार पंत के नेतृत्व में एक टीम बनाई गई.  पुलिस टीम ने तीन आरोपियों  सेक्रेटरी सोनिया, राहुल और देवेंद्र को को गिरफ्तार कर लिया है.

About Editor

Check Also

इस शातिर कैदी ने तोड़ दिया तिहाड़ का तिलिस्म, लाख निगरानी के बाद भी पेट में छिपा रखा था मोबाइल

नई दिल्ली. तिहाड़ जेल का तिलिस्म आज तक किसी की समझ में नहीं आया है. जब …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *